Uncategorized

क्या है राज़ महुआ के पेड़ का [पिपरिया में स्थित नयागांव ]

होशंगाबाद जिले के पिपरिया में बनखेड़ी ब्लॉक स्थित नयागांव जहाँ सतपुड़ा टाइगर रिज़र्व के प्रतिबंधित क्षेत्र में महुआ का पेड़ mahua ke ped nayagaon आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।यहाँ बड़ी  मात्रा में लोगो का लगा है।

ऐसा कहा जा रहा है बहुत ले लोगो को इसका आराम लगा है पर अभी तक साक्षात् ऐसा कोई इंसान नहीं मिला जिसको आराम लगा हो सब सुनी सुनाई बातो पर वहां जा रहे है ऐसा क्यों हो रहा है इसका कुछ पता नहीं चला रहा।

पर कुछ लोगो से पूछे जाने पर हमे यह पता चला है कि वहां जो भी जाता है उसको कोई भी बीमारी हो उसको आराम लगे या न लगे पर उसे सबको यह बताना पढता है कि उसे आराम लग गया है वरना वह बीमारी और बढ़ सकती है इस कारन जो भी वहां जाता है वह उस स्थान की बढ़ाई ही करता है और इसी वजह से वहां लोगो की भीड़ दिन पर दिन बढ़ती जा रही है क्योकि वहां की बुराई कोई नहीं करता है सब लोगो अच्छा ही बोलते है।

“अफवाह फैलाने वाले कि तलाश की जारही है। आपके माध्यम से यह जानकारी हमे मिली इस पर कार्यवाही की जाएगी साथ ही जो अवैध गतिविधियां धर्म की आड़ में कई जारही है उन पर भी रोक लगाएंगे।”

– लोकेश नैनपुरे (एस.डी.ओ सतपुड़ा टाइगर रिज़र्व,पिपरिया रेंज)

“स्थानीय लोगो द्वारा भ्रांति फैलाई गई है , ऐसा कोई साक्ष्य नजर नही आरहा जिससे यह साबित हो कि इस पेड़ में कुछ चमत्कार है। बनखेड़ी तहसीलदार को घटनास्थल पर भेजा है । लोगो को समझाइश देकर वहाँ से हटाया जाएगा।”

– मदन रघुवंशी (एस.डी. एम) पिपरिया 

लोगो का दावा है कि इस पेड़ में दैवीय शक्ति है जिससे लोगो का इलाज हो रहा है। स्थानीय रहवासियों का कहना है कि 1 महीने पहले एक चरवाहे के हाथ पैर अकड़ गए थे, उसने इस पेड़ का स्पर्श किया शंकर भगवान को याद किया जिसके बाद उसके हाथ ठीक हो गए। इसके बाद से ही लोगो ने इस भगवान का चमत्कार मान लिए और इस पेड़ के दर्शन करने पहुँचने लगे, नवरात्र में यह खबर गाँव-गाँव आग की तरह फैल गई और अन्य जिलों से भी पीड़ित भक्त इस पेड़ के स्पर्श करने हजारो की तादाद में पहुँचने लगे, द लोकनीति की टीम ने भी घटना स्थल का दौरा किया तो देखा कि भीड़ इतनी अधिक है अब हालात यह हो चुके है कि इस पेड़ के आसपास कदम रखने की भी जगह नही है।

प्रतिदिन पहुँच रहे हजारो भक्त

इस पेड़ को स्पर्श करने प्रतिदिन हजारों की संख्या में विभिन रोगों से पीड़ित लोग इस स्थान पर पहुँचने लगे है। आलम यह है कि रोज बढ़ती भीड़ को देखते हुए स्थानीय लोगो को रोजगार मिल गया है और वह सब नारियल प्रसाद, नास्ते ,चाट फुल्की ,की दुकान लगाने लगे है।

इस पूरे मामले की खबर अन्य जिलों के लोगो तक पहुँचने के बाद भी न तो स्थानीय वन विभाग और न ही प्रशासन को इसकी भनक है।

खुलेआम धर्म के नाम पर लोगो की आस्थ से खिलवाड़ किया जारहा है।

थाना प्रभारी भी पेड़ के आगे हुए नतमस्तक।

पिपरिया स्टेशन रोड थाना प्रभारी सतीश अंधवान जरूर इस घटना स्थल पर पहुँचे लेकिन बगैर यूनिफार्म ,

साथी स्टॉफ भी सिविल ड्रेस में ही नजर आया। लोगो को धर्म के नाम पर अंधविश्वास रोकने के बजाए थाना प्रभारी ही पेड़ के आगे नतमस्तक होते  दिखाई दिए।

Ek Tik Tok video bana kar kamaye 20 hazar rupya [Tik Tok Earn Money]

महिलाओं के अनुसार, पुरुषों की सुंदरता क्या है? [According to women, what is the beauty of men?]

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top